SSC Combined Higher Secondary Level(CHSL) Eligibility and Preparation in Hindi

Last Updated on अक्टूबर 15, 2022 by Madan Jha

 

 

SSC CHSL Exam के बारे में जानने से पहले SSC के इतिहास के बारे में कुछ जान लेते हैं।

 

 

STAFF SELECTION COMMISSION  की स्थापना केंद्र सरकार द्वारा 4 नवम्बर 1975 को किया गया था। भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालय व विभाग के लिए ग्रुप c कर्मचारीयों के नियुक्त करने के उद्देश्य से किया गया। 

 

इसका मुख्यालय नई  दिल्ली में हैं। इसे पहले SUBORDINATE SERVICES COMMISSION के नाम से जाना जाता था। 26 September 1977 को यह नाम बदलकर STAFF SELECTION COMMISSION रखा गया।

 

 

SSC का वर्तमान रूप 21 May 1999 को आया। इसका मुख्य कार्यालय नई दिल्ली में है। इसके अलावा इनके 7 रीजनल ऑफिस  प्रयागराज, बंगलरु, मुंबई, कोलकाता, गुवाहाटी और नई दिल्ली में है।

 

SSC द्वारा आयोजित की जानेवली परीक्षा 

  SSC विभिन्न तरह की परीक्षा का आयोजन करती हैं जैसेे-

 

(1)    SSC COMBINED HIGHER SECONDARY  LEVEL EXAM (SSS CHSL)          

 (2)    SSC COMBINED GRADUATE LEVEL EXMS (SSC CGL)

 

(3)    SSC MULTITASKING STAFF

 

(4)    SSC GD CONSTABLE

 

(5)    JUNIER HINDI TRANSLATER

 

(6)    STENOGRAPHER C & D

 

(7)    SI (CPO)

 

दोस्तों उपरोक्त सभी परीक्षाओ के बारे में एक साथ बताना शुरु करें को लेख बहुत लम्बा हो जायेगा और आपको कुछ समझ में भी नहीं आएगा।  

 

 

इसलिए इन सभी परीक्षाओ में से सबसे लोकप्रिय परीक्षा SSC Combined Higher Secondary Level Exam के बारे में आपको बिस्तार से जानकारी दे रहा हु।

 

 

इस परीक्षा में बैठने की योग्यता क्या है? आयु सीमा कितनी हैं? परीक्षा पैटर्न, परीक्षा सिलेबस, किस पद के लिए यह परीक्षा आयोजित की जाती है? 

 

 

इस सभी के बारे में आपको बिस्तार से चर्चा करेंगे। जिससे आपको पूरी और सही जानकारी सरल भाषा में मिल सके।

 

  योग्यता (Qualification)

 आपके मन में यह सबाल उठता होगा की इस परीक्षा में शामिल होने की योग्यता क्या हैं । जैसा कि इसका नाम SSC CHSL से स्पष्ट है की इसमे शामिल होने की योग्यता 10+2 पास होनी चाहिए।

 

 

उम्र सीमा (Age)

SSC CHSL Exam में शामिल होने की आयु सीमा 18 से 27 वर्ष है। एससी एसटी और ओबीसी को नियमानुसार छूट है। एससी एसटी को 5 वर्ष एवं ओबीसी को 3 वर्ष का छूट दी जाती है।

 

Part-1 Computer Science GK

 
 
 
 
 
 
 

 

परीक्षा पैटर्न (Exam pattern)

 SSC CHSL Exam तीन चरणों में आयोजित किया जाता है Tier-1, Tier-2 और Tier-3।

 

Tier-1 परीक्षा ऑनलाइन आयोजित होता है। इसमें कुल 100 ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते हैं और समय 60 मिनट होता है। मार्क्स 200 अंकों का, यानी प्रत्येक प्रश्न के लिए दो नंबर मिलता। इसमें कुल 4 subject के प्रश्न पूछे जाते हैं

 

English Language – 25

रीजनिंग एबिलिटी – 25

अंकगणित – 25

सामान्य ज्ञान – 25

प्रत्येक सही सवाल के लिए 2 अंक मिलते हैं और  गलत उत्तर देने पर 0.50 मार्क्स कट जाते हैं।

 निगेटिव मार्क्स होने के कारण आप केवल उन्हीं सवालों को जवाब दें जो जानते हैं। गलत या अनुमान लगाने का प्रयास ना करें।

 

Tier – 2  यदि आप Tier 1 परीक्षा में क्वालीफाई हो जाते हैं तो Tier- 2 में भाग ले सकते हैं। Tier 2 परीक्षा डिस्क्रिप्टीव टाइप के होते हैं।

यानी इसमें प्रश्न का उत्तर विस्तार से लिखने पड़ते हैं। इस परीक्षा में भी 100 अंकों के सवाल पूछे जाते हैं और समय सीमा 60 मिनट होते हैं। इस परीक्षा में कम से कम 33% marks लाना आवश्यक है। 33% से कम लाने पर आप disqualify हो जाएंगे।

इसमें 200 से 250 शब्दों में Essay Writing तथा 150 से 250 शब्दों में Letter/Application Writing का पेपर लिया जाता है।

आप इसे हिंदी या इंग्लिश दोनों में  से किसी एक भाषा में दे सकते हैं। दोनों भाषा मिलाकर उत्तर देने पर आप डिसक्वालीफाई हो जाएंगे।

 

Tier -3 यदि आप Tier-1 और Tier- 2 परीक्षा में क्वालीफाई कर जाते हैं तो Tier -3  में शामिल हो सकते हैं।  Tier – 3 में टाइपिंग टेस्ट एवं डाटा एंट्री ऑपरेटर के लिए स्किल टेस्ट का आयोजन किया जाता है। 

 

 

यह परीक्षा क्वालीफाई नेचर का है । यानी इसमें केवल क्वालीफाई करना आवश्यक है। इसकेे मार्क्स Merit List में नहींं जोड़े जाते।

 

किस पोस्ट के लिए चयन होता है ?

यदि आप Tier -1, Tier -2 और Tier – 3 में सफलतापूर्वक पास हो जाते हैं तो आप का चयन आपके मेरिट लिस्ट के अनुसार निम्न पदों में हो सकती हैं।

 जैसे Lower Division Clerk (LDC), Junior Secretarial Assistant (JSA), Postal Assistant(PA), Data Entry Operator(DEO) इत्यादि।

 

SSC CHSL Exam की तैयारी कैसे किया जाए?

 

 जैसा कि आपको मैं बता चुका हूं कि इस परीक्षा में Tier-1 में 4 विषय से प्रश्न पूछे जाते हैं। English Language, Reasoning,  Arithmetic  और GK ।

इन चारों विषय में अलग-अलग क्वालीफाई करना आवश्यक है। सभी विषयों की तैयारी के बारे में अलग-अलग बात करते हैं।

English Language यह भाग सबसे महत्वपूर्ण है। हिंदी मीडियम के स्टूडेंट और विषय में तो अच्छे मार्क्स ले आते हैं परंतु इसी में क्वालीफाई नहीं कर पाते हैं।

इस विषय में अच्छे नंबर लाने के लिए आपको Synonymous, Antonyms, Common Error, Tense, Comprehension etc चैप्टर को अच्छी तरह तैयार करना पड़ेगा।

 इसके अलावा इंग्लिश न्यूज़ पेपर  Times of India,  The Hindu प्रत्येक दिन पढ़े। English news channels  कम से कम एक घंटा जरूर ध्यान से देखें। 

Reasoning इसे हल करने में ज्यादा परेशानी नहीं होती हैं। यदि आपने किसी अच्छी प्रकाशक जैसे उपकार, अरिहंत का बुक एक से दो बार बना लिया तो इसमें आप पूरे 25 में 25 नंबर ला सकते हो।

Number Series, Latter Series, Blood Relation, Mirror Image, Water Image आदि चैप्टर से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

अंकगणित – अंकगणित जिस विद्यार्थी को आता है उसके लिए यह बहुत आसान है और जिसे नहीं आता है उसके लिए बहुत मुश्किल होता है।

यदि क्वेश्चन पेपर का अध्ययन किया जाए तो कुछ सवाल सिंपल और कुछ सवाल कठीन पूछा जाता है। यदि आपने आर एस अग्रवाल का अंकगणित दो से तीन बार हल कर लिए तो आप 25 प्रश्न में से 95%+ मार्क्स ला सकते हैं।

सामान्य ज्ञान –  सामान्य ज्ञान में General Knowledge, General Science, करंट अफेयर्स से संबंधित सवाल पूछे जाते हैं।

 इसमें अच्छे मार्क्स लाने के लिए आप उपकार बुक, लुसेंट का सामान्य ज्ञान पढ़ें एवं प्रत्येक महीना सामान्य ज्ञान दर्पण पढ़ें। इससे आप का सामान्य ज्ञान अच्छा हो जाएगा।

Tier – 2 ‌ इस परीक्षा आप अंग्रेजी और हिंदी दोनों भाषा में किसी एक भाषा में लिख सकते हैं। यदि आप अंग्रेजी भाषा का चुनाव करते हैं तो यह आपके लिए अच्छा रहेगा।

इसमें परीक्षा डिस्क्रिप्टिव टाइप लिया जाता है। इस परीक्षा के बारेे में ऊपर  बता चुका हूं।

 

 

Tier -3  इस  में सफलता पाने के लिए आपको हिंदी या इंग्लिश टाइपिंग को अच्छी तरह सीखना पड़ेगा। यदि आप 6 महीने प्रैक्टिस कर लेते हैं तो आप इसमें क्वालीफाई हो सकते हैं।

टाइपिंग में स्पीड के साथ-साथ शुद्धता पर भी ध्यान दें। अगर आप  एक बार गलत टाइपिंग करने का अभ्यास लग जाता है तो फिर यह सही होने में काफी दिक्कत होती हैं।

इस प्रकार मैंने आपके सामने SSC CHSL परीक्षा के बारे में पूरी जानकारी रख दिया हूं। अब कई विद्यार्थी सोचते होंगे यह तो बहुत कठिन है।

 

 

Tier -1, Tier -2 और Tier – 3 इतना स्टेज पार करना पड़ता है, कैसे होगा? नहीं होगा, इत्यादि। उसके लिए मेरा एक सुझाव

 

कोई भी लक्ष्य इंसान के 

प्रयासों से बड़ा नहीं है।

हारा तो वह है जो इंसान 

कभी लड़ा नहीं है

 

प्रत्येक साल हजारों की संख्या में विद्यार्थी इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करते हैं और अपना केरियर बनाते हैं। यह परीक्षा देश के लगभग प्रत्येक जिला में आयोजित किया जाता है।

कहीं आने-जाने का का झंझट नहीं है। इसलिए आप एक बार जरूर इस पर विचार करें।

स्टेशन गुरुजी

मेरे वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी है। मैं पढ़ाई लिखाई, मोटिवेशनल कहानी, वित्तीय जानकारी इत्यादि शेयर करता रहता हूं। यह आप के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकता है।

आप गूगल पर जाकर स्टेशन गुरुजी लिखे या बोल दे। उसके आगे अपना कोई भी सवाल डाल दें आपको उसका जवाब मिल जाएगा। नहीं मिलता है तो आप मुझे ईमेल कर सकते हैं। मैं जवाब देने का प्रयास करूंगा। मेरा ईमेल पता है [email protected]

 धन्यवाद

 

Author

  • Madan Jha

    Hello friends, मेरा नाम मदन झा है। मैं LNMU Darbhanga से B.Com (Hons) एवं कोटा विश्वविद्यालय राजस्थान से M.Com हूं। मेरे इस वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी www.stationguruji.com हैं। मैं रेलवे विभागीय परीक्षा (Railway LDCE Exam), बच्चों के पढ़ाई लिखाई, नौजवानों के लिए मोटिवेशनल कहानी एवं निवेश, स्टॉक मार्केट संबंधी वित्तीय एवं ज्ञानवर्धक जानकारी शेयर करता रहता हूं।( नोट - उपर में Download बटन लगा है। Download करने के लिए पेज़ पर सबसे नीचे View Non-AMP version पर क्लिक करें। फिर नए पेज़ पर Download बटन पर क्लिक करके इसे Download कर सकते हैं।)

Leave a Comment