मन को शांत कैसे करें – How to get peace of mind in Hindi

Last Updated on अक्टूबर 22, 2022 by Madan Jha

मन को शांत कैसे करें

How to get peace of mind in Hindi

महात्मा बुद्ध ने कहा है

जिसका मन शांत है वह दुनिया के सभी क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकते हैं। क्योंकि मन शांत वाले व्यक्ति कभी भी कोई गलत निर्णय नहीं ले सकता।

 कुछ दिन पहले मैंने एक लेख लिखा था जिसका विषय था ज्यादा सोचना (Overthinking) उसमें हमने आपको बताया था कि Overthinking के क्या कारण हैं एवं इसके बचने का क्या उपाय हैं।

कुछ लोगों ने मुझसे पूछा कि हम अपने मन और दिमाग को शांत कैसे करें? यदि हमारा मन शांत रहेगा तो Overthinking आएगी ही नहीं।

बात तो यह भी सही है। हमें फालतू के विचार तभी मन में आते हैं जब हमारा मन और दिमाग भटकता है। यदि हम अपने मन को शांत रखें तो यह समस्या नहीं आएगी।

दोस्तों हमारा mind हमेशा कुछ ना कुछ सोचता ही रहता है कभी positive तो कभी negative। इसी सोच सोच कर हमारा mind थक जाता है और हमें अपने mind को relax करना पड़ता है।

अभी लॉकडाउन चल रहा है। लॉकडाउन में क्या करें? यह सोच सोच कर दिमाग थक जाता है और मन अशांंत रहता है।

मन को शांत ना रहने के क्या कारण है?

हमारा मन अशांत रहने के कई कारण है। हम अनेक समस्या के बारे में सोचते रहते हैं। वह समस्या जो कभी शायद हमारी जिंदगी में आएगी ही नहीं। उसके बारे में सोच सोच के मन को अशांत करते रहते हैं।

जैसे पढ़ने वाले बच्चे सोचते हैं कि मेरा पढ़ाई में मन नहीं लगता है। यदि परीक्षा में फेल हो गया तो क्या होगा? नौकरी करने वाले कर्मचारी सोचते हैं यदि नौकरी छूट गया तो क्या होगा? बिजनेस करने वाले व्यक्ति सोचते हैं यदि बिजनेस में नुकसान हो गया तो क्या होगा?

 चुकी यह संभावना बहुत कम रहती है। लेकिन सोच सोच कर ही हम अपने आप को दुखी और अशांत करते रहते हैं। चिंता और टेंशन में रहते हैं।

 आज के नौजवानों को मन अशांत रहने का एक बड़ा कारण यह भी है कि यदि मुझे मेरा बॉयफ्रेंड/ गर्लफ्रेंड साथ छोड़  दे तो मेरा क्या होगा? इस सभी समस्याओं का मैं आपको निवारण बताऊंगा।

मन को शांत करने के तरीके

हम अपने दिमाग और मन को दो तरीके से शांत कर सकते हैं पहला अस्थाई एवं दूसरा अस्थाई तरीके से।

अस्थाई तरीके को अपनाकर आप अपना मन को तुरंत शांत कर सकते हैं। इसमें कुछ ही  समय लगता है और यह कुछ ही समय के लिए होता भी है।

अस्थाई तरीके हैं जैसे मोबाइल पर किसी से लंबी बातें करना, कोई मोबाइल गेम खेलना,  YouTube देखना, कोई अच्छी मूवी देखना, कहीं पर घूमने चला जाना, किसी से मिलने चला जाना। मोटिवेशनल कहानी भी पढ़ सकते हैंं।

लेकिन यह सभी अस्थाई तरीके कुछ समय के लिए ही आपके मन एवं दिमाग को शांत करेगा। इसमें कुछ समय बाद side effects भी दिखने लगेंगे। जैसे आप प्रतिदिन किसी व्यक्ति से लंबी बात करोगे वह व्यक्ति आप में interest लेना बंद कर देगा।

 यदि आप प्रतिदिन किसी व्यक्ति से मिलने जाओगे तो वह आपकी कमजोरी समझ कर आपका ब्लैकमेल कर सकता है।

यदि आप जरूरत से ज्यादा मोबाइल गेम या YouTube देखोगे तो उससे भी नुकसान होगा। क्योंकि कई आवश्यक काम आपका पीछे छूट जाएगा।

यदि आप ज्यादा देर तक टीवी देख कर अपना mind को शांत करोगे तो इसके भी कई side effects  दिखने लगेंगे।

मन को शांत करने का स्थाई तरीके

अगर आप मन को शांत करने के लिए किसी डॉक्टर के पास जाओ तो वह आपको दवा देंगे, किसी पंडित के पास जाओ तो वह आपको संस्कृत का कोई मंत्र बताएंगे जिसका जाप करो।

 किसी बाबा के पास जाओ वह आपको ताबीज देंगे। किसी योग गुरु के पास जाओगे तो वह आपको कुछ योग बताएंगे जिसे करने से आपका मन शांत होगा।

आप लोगों ने यह सभी उपाय अपनाएं भी होंगे। यदि आपका मन एवं दिमाग शांत हो गया हो तो आप आगे ना पढें।

 यदि आपको उपरोक्त करने के बाद भी मन में शांति ना मिला हो तो आप मेरे द्वारा कुछ सुझावों को जरूर पढ़ें।

मेरा सुझाव यह है कि मन की शांति भंग करने का कारण क्या है ? हमें पहले उस कारण को खोजना होगा और फिर उस कारण का निवारण क्या है?

यदि आपने खुद उस कारण को खोज लिया तो निवारण आपको मैं बता दूंगा। लेकिन कारण आपको ही खोजना पड़ेगा क्योंकि यह आपका व्यक्तिगत कारण हो सकता है।

चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य कहते हैं  अपनी आंखों का आंसू बार-बार साफ़ से अच्छा है उस कारण को ही साफ़ कर दो जिसके कारण हमारे आंख में आंसू आते हैं।

पहले आप यह सोचे कि आपका मन जिस कारण से अशांत हो रहा है क्या वह कारण सही है? अपने कारण के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह लगाएं।

आप उस कारणों पर विस्तार से चर्चा करें। क्या वास्तव में यह कारण इतना बड़ा है जितना बड़ा आप उसे मानते हैं या यह आपके मन का भ्रम है।

कई बार हम अपने मन में कुछ भ्रम पाल लेते हैं और जो समस्या हमारे जिंदगी में कभी आएगी ही नहीं उसके बारे में सोच सोच कर अपने मन को अशांत करते रहते हैं।

मन का अशांत रहने का मुख्य कारण एवं उसके निवारण

आपको मैं नीचे कुछ मुख्य कारण एवं उसके निवारण के बारे में बता रहे हैं जिसके कारण आपका मन अशांत रहता होगा।

1. मुझे मेरा गर्लफ्रेंड/बॉयफ्रेंड छोड़ के चला जाएगा तो क्या होगा?

आज के नौजवानों का मन अशांत रहने का मुख्य कारण में से एक कारण यह भी है। ज्यादातर नौजवान लड़का/लड़की  इसी कारण से परेशन रहते हैं। लेकिन आप शान्त दिमाग से सोचे। क्या वास्तव में यह समस्या इतना बड़ा है जितना बड़ा आप इसे मानते हैं।

हां यदि यह सोचेंगे कि ऐसा दोस्त मुझे अब बार-बार नहीं मिलेगा या यह मेरा सबसे best friend था या इतना बड़ा धोखा देने के बाद मैं कैसे जिंदा रह पाऊंगा, तो मन आपका अशांत रहेगा।

आप यह सोचे कि यदि वह छोड़ देगा तो क्या होगा? उससे भी अच्छा मिल जाएगा या फिर उसका background history देखिए।

आप को छोड़ने से पहले वह ना जाने कितनों को छोड़ चुका है। अच्छा हुआ कि आपको समय से छोड़ दिया नहीं तो जितना देर आपके पास रहता आपका खून ही पीता।

उसी को शॉपिंग करा-करा कर आप कंगाल बन गए हैं। ना जानें कितने दोस्तों से उधार मांग रखी है। जो होता है अच्छे के लिए होता है। अच्छा हुआ उसने मुझे छोड़ दिया नहीं तो मैं नहीं छोड़ देता।

तेरे बदलने का दुख नहीं मुझको

मैं तो अपने यकीन पर शर्मिंदा हूं।

 

इस तरह सोचने से ऐसी परेशानी पर काबू पा सकते हो और आपका मन शांत रहेगा। टेंशन आपकी दूर हो जाएंगी।

2. मैं इस परीक्षा में फेल हो गया तो क्या होगा?

आज पढ़ने वाले विद्यार्थियों में इस प्रकार का सवाल आकर दिमाग को अशांत कर देता है। कई विद्यार्थी पढ़ाई के बीच-बीच में फेल होने की चिंता करके दिमाग को अशांत करते रहते हैं। आप इस प्रकार से यह समस्या को हल कर सकते हैं.

पहले खुद पर पुरा विश्वास रखें कि मेरा पढ़ाई में मन लग रहे हैं और मैं फेल नहीं हो सकते हैं। फिर यह सोचें की फेल हो गया तो क्या होगा? मेरे अंदर टैलेंट है। आज नहीं तो कल मैं अपनेे सपने को सच करूंगा।

आप परीक्षा दी हैं तभी तो आप पास और फेल होंगे। जो लोग परीक्षा दिए ही नहीं वह क्या पास या फेल होगा। नई शिक्षा नीति 2021 में इस डर को कम करने का पहल किया गया है।

इस बार फेल हो गए तो क्या होगा, दूसरा मौका मिलेगा फिर तीसरा मौका मिलेगा। Competitive Exams की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को यह सवाल ज्यादा ही परेशान करता रहता है। जिसके कारण उनका मन अशांत रहता है।

जब भी आप Competitive Exams में फेल हो जाए तो सोचो कि यह नौकरी हमारे लायक नहीं थी हमें इससे भी  बड़ी नौकरी मिलेगी। अगली बार परीक्षा में अच्छा नंबर जरूर लाऊंगा। मैं अपने सपने को साकार जरूर करूंगा।

 मैंने कई अपने दोस्त को देखा है जिसने Railway Group D Exam नहीं पास किए वह बाद में RRB NTPC पास किया जो दोस्त SSC CHSL Exam में PT नहीं निकाल पाया बाद में BPSC पास करके अधिकारी बना।

 ऐसे कई उदाहरण आपके आसपास भी मिलेगा। इसलिए कभी भी परीक्षा के फेल होने की चिंता में दिमाग को अशांत ना करें। टाइम टेबल बनाकर पढ़ाई करें।

जो हो गया उसे सोचा नहीं करते 

जो मिल गया उसे खोया नहीं करते

 हासिल उन्हें होती है सफलता 

जो वक़्त और हालात पर रोया नहीं करते।

3. Business में Loss हो गया तो क्या होगा?

कई नौजवान business शुरू करने से पहले ही loss की चिंता से परेशान रहते हैं या जो business कर रहे हैं वह भी यह सोच सोच कर परेशान रहते हैं कि यदि loss हो गया तो क्या होगा?

 आप हमेशा अपने mind को positive thinking में लगाए अपने आपको या कहे कि मैं ईमानदारी से business करूंगा तो loss मुझे हो ही नहीं सकता और यदि loss हो गए क्या, उसे उठा लूंगा।

सभी व्यापारी को कभी loss तो कभी profit होती रहती हैं। जिस प्रकार रात के बाद दिन और दिन के बाद याद आती हैं। ठीक उसी प्रकार बिजनेस में profit loss होते रहते हैं।

आज दुनिया के टॉप 100 बिजनेस मैन का आप जीवनी पढ़ें। आप जानेंगे वह कभी ना कभी loss जरूर उठाया है। Successful लोगों की सोच को जानेें। आखिर किस प्रकार वह बड़ा सोचते हैं और बड़ा बनते हैं।

जो business करेगा उसे ही profit या loss होगा। जो कुछ करेगा ही नहीं, निठल्ले बैठा रहेगा उसे क्या profit या loss होगा।

संक्षेप में

इस प्रकार और ना जाने ऐसे बहुत सारी समस्या है जिसके कारण आपका मन अशांत हो सकता है। इसलिए पहले आप उस कारण को जाने जिसे कारण आपका मन अशांत रहता है।

फिर उस कारण का विस्तार से अध्ययन करें। आपको जरूर कोई ना कोई समाधान निकल जाएगा और समाधान को लागू करके अपने मन को शांत करें।

दोस्तों दुनिया में ऐसी कोई भी समस्या नहीं है जिसका समाधान ना हो। चाहे वह समस्या कितनी बड़ी क्यों ना हो। इसलिए यदि आपके मन के अशांत होने का कोई कारण है तो उसका निवारण भी जरूर है।

बस आप को उसे खोजना है। यदि आप को वह समाधान ना मिले तो हमें जरूर लिखें। हम आपका हर संभव मदद करेंगे।

स्पीड ब्रेकर कितना भी बड़ा हो

 गति धीमी करने से झटका नहीं लगता

 उसी तरह मुसीबत कितना भी बड़ा हो

शांति से विचार करने पर जीवन में झटके नहीं लगते.

आपके मन में कोई सवाल हो तो गूगल में जाकर स्टेशन गुरुजी लिखे और उसके आगे का सवाल लिखते हैं आपको उसका जवाब मिल जाएगा। यदि और कोई मन में सवाल हो तो हमें आप ईमेल भेज सकते हैं मेरा ईमेल आईडी है [email protected]

धन्यवाद

Author

  • Madan Jha

    Hello friends, मेरा नाम मदन झा है। मैं LNMU Darbhanga से B.Com (Hons) एवं कोटा विश्वविद्यालय राजस्थान से M.Com हूं। मेरे इस वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी www.stationguruji.com हैं। मैं रेलवे विभागीय परीक्षा (Railway LDCE Exam), बच्चों के पढ़ाई लिखाई, नौजवानों के लिए मोटिवेशनल कहानी एवं निवेश, स्टॉक मार्केट संबंधी वित्तीय एवं ज्ञानवर्धक जानकारी शेयर करता रहता हूं।( नोट - उपर में Download बटन लगा है। Download करने के लिए पेज़ पर सबसे नीचे View Non-AMP version पर क्लिक करें। फिर नए पेज़ पर Download बटन पर क्लिक करके इसे Download कर सकते हैं।)

Leave a Comment