पढ़ाई में मन कैसे लगाएं। पढ़ाई में मन लगाने के 11 तरीक़े जरूर पढ़ें।

Last Updated on अक्टूबर 2, 2022 by Madan Jha

 पढ़ाई में ध्यान कैसे लगाएं?

क्या आप को पढ़ाई में मन नहीं लगता है? आपको या आपके बच्चे को पढ़ाई में मन नहीं लगता होगा इसलिए आप भी यह लेख पढ़ रहे हैं। मेरा दावा है कि मैं पढ़ाई में ध्यान लगाने संबंधी ऐसे बातों का उल्लेख करूंगा जो आप पहले कभी नहीं पढ़े होंगे।

 

आजकल के बच्चे को केवल टीवी और मोबाइल में मन लगता है। कई बच्चे दिन भर टीवी देखते रहते हैं। मोबाइल गेम खेलते रहते हैं। आप बहुत प्रयास करते होंगे कि अपने बच्चों को पढ़ाई के लिए सही रास्ता पर लाए लेकिन वह नहीं आता है।

 

आप कभी-कभी सोच रहे होंगे कि सभी बच्चे ऐसे ही होते हैं। किसी का भी मन पढ़ाई में नहीं लगता। सभी मोबाइल गेम खेलते हैं। सभी मस्ती करते हैं। तो आपका यह मन का भ्रम है। यदि सभी मस्ती करते तो प्रत्येक परीक्षा में आज नया रिकॉर्ड नहीं बनता।

 

NEET 2021 में 720 में से 720 number लाने वाले एक नहीं बल्कि तीन students थें, लाकर इस परीक्षा का रिकॉर्ड तोड़ा है। JEE में एक नहीं कई विद्यार्थी ने 100 percentiles  आया हैै। और ना जाने कितने परीक्षा जिसमें पिछले परीक्षा का रिकॉर्ड टूट रहा हैै।

 

तो क्या यह सारे रिकॉर्ड ऐसे ही टूटते हैं? क्या सभी विद्यार्थी मोबाइल टीवी में ही व्यस्त रहते हैं? अब आपका सोच बदल गया होगा अब आप सोच रहे होंगे हां मेरे ही बच्चे बिगड़े हुए हैं और बच्चे जरूर पढ़ते हैं कि इतना अच्छे नंबर ले आते हैं।

 पढ़ाई में मन क्यों नहीं लगता?

 

पहले आप अपने आप से पूछिए पढ़ाई में मन क्यों नहीं लगता? आखिर क्या कारण है मेरा मन पढ़ाई में नहीं लगता? उस कारण को खोजिए जो आपके ध्यान को एक जगह एकत्रित नहीं होने देता है? 

 

क्या कोई आपका गर्लफ्रेंड है? क्या आप किसी मोबाइल गेम में लेवल पर लेवल पार करने के चक्कर में पड़े हैं? क्या आप MPL डाउनलोड कर रखे हैं और पैसे कमाने के चक्कर में पड़े हैं? क्या आप किसी टीवी सीरियल के दीवाने हो गए हैं  और उसके टाइम का इंतजार करते रहते हैं आदि। पहले उस कारण को खोजें।

 

अब यह सोचिए कि जिस कारण से आपको पढ़ाई में मन नहीं लगता है क्या वह पढ़ाई से ज्यादा महत्वपूर्ण है? क्या आपकी गर्लफ्रेंड आपकी पढ़ाई से ज्यादा महत्वपूर्ण है? क्या आपका मोबाइल गेम में लेवल 3-4-5 को पार करना आपके पढ़ाई से ज्यादा महत्वपूर्ण है? क्या कोई टीवी सीरियल के प्रति दीवानगी आपकी परीक्षा से ज्यादा महत्वपूर्ण है?

 

अगर आप समझते हैं कि वास्तव में पढ़ाई से यह सभी काम ज्यादा महत्वपूर्ण है फिर आप इसी पर ध्यान दे पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे। क्योंकि जब तक आप यह नहीं समझेंगे कि पढ़ाई सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है तब तक आप पढ़ाई पर ध्यान नहीं दे सकते भले आप कितना भी Motivational Video देख लो, motivational क्लास अटेंड करो या Inspirational Book  पढ़ लो।

 

पढ़ाई में मन कैसे लगाएं ?

 

पढ़ाई में मन नहीं लगने का मैंने ऊपर में आपको कई कारण बता दिया है। कोई ना कोई कारण जरूर होगा जिससे आपको पढ़ाई में मन नहीं लगता होगा। अब सवाल यह आती हैं पढ़ाई में मन कैसे लगाएं? इस सवाल का जवाब जानने के लिए आप इस सवाल पर एक और सवाल लगा दे वह सवाल हैं पढ़ाई में मन क्यों लगाए?

 

जब आपको इस सवाल का जवाब मिल जाएगा कि पढ़ाई मन क्यों लगाए तो आपको पढ़ाई में मन कैसे लगाएं जरूर पता लग जाएगा।

 

पढ़ाई में मन क्यों लगाए? इस सवाल का जवाब आप अपने आप को इस प्रकार दें-

मुझे जीवन में कुछ बन कर दिखाना है इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

मुझे बचपन से ही कुछ बनने की सपना है इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

मेरे माता पता को मेरे भविष्य की चिंता लगी हुई है उस चिंता को दूर करने के लिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

मुझे बड़ा होकर मज़दूर नहीं बनना है इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

हर इंसान अपने आप में एक अजूबा हैं क्योंकि ईश्वर ने प्रत्येक इंसान को अलग अलग गुण देकर भेजा है। यह गुण मुझे और विकसित करना है। ईश्वर ने मुझे बनाकर एक सही इंसान को बनाया है यह बात मुझे साबित करना है। इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

मैं कुछ बनकर केवल अपना ही नहीं अपने माता-पिता, अपने समाज और देश का नाम ऊंचा करना चाहता हूं। इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

मैं किसी से प्यार करता हूं और उसी से  शादी करने का फैसला ले चुका हूं। लेकिन बिना मंजिल मिले मेरी शादी नहीं हो सकती। इसलिए उस मंजिल को प्राप्त करने के लिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है।

 

यह Mobile, TV, मोटरसाइकिल, Airplanes सभी किसी इंसान ने बनाया है और यह वह इंसान है जो मन लगाकर पढ़ा है। इसलिए मुझे पढ़ाई में मन लगाना है तभी मैं दुनिया के लिए कुछ बना सकता हूं।

 

 बहुत ऐसे  कारण हैं जिन्हें अपने आप से पूछिए। यह सब काम तभी पूरा होगा जब आप पढ़ाई में मन लगाओगे। अगर आपको इसका जवाब मिल गया कि मुझे पढ़ाई में मन क्यों लगाना है तो दुनिया की कोई भी ताकत आपको पढ़ने से नहीं रोक सकती हैं।  

 

आप भूल जाओगे कि मोबाइल गेम क्या है? टीवी का सीरियल क्या है? आपको रात और दिन का पता ही नहीं चलेगा। कैसे बीत जाएंगे महीने और साल आपको पता ही नहीं चलेगा।

 

आप कोई मोटिवेशनल वीडियो और कहानी पढ़कर अपने आपको एक-दो दिन मोटिवेट कर सकते हो। लेकिन जब आप कोई कारण खोज लोगे पढ़ाई का तो यह आपको हमेशा मोटिवेट रखेगा।

 

पढ़ाई में मन लगाने के 11  तरीके

 

1. जहां मन करे वहां पढ़ना शुरू कर दो 

कुछ लोग बोलते हैं पढ़ाई के लिए शांत माहौल चाहिए। शोरगुल नहीं चाहिए। कुछ आवाज नहीं आनी चाहिए। यह सब कहने की बातें हैं।

 

 कुछ दिन पहले मैंने एक मोटिवेशनल लेख लिखा था जिसमें बताया था की एक रेलवे कूली ने रेलवे स्टेशन पर पढ़ कर और कुली का काम करते हुए आईएएस अधिकारी बन गया। ना ही उसको शांत माहौल मिला और ना ही एकांत जगह।  इसलिए आप भी जहां  हो वहां पर पढ़ई शुरू कर दें।

 

 यदि आपको पढ़ने में रुचि है तो आपके आगे-पीछे भले कोई भी बैंड बाजा बजाए आप पढ़ते रहेंगे। ट्रेन में, बस में कहीं आप जा रहे हो, पढ़ने का मन हो पढ़ना शुरू कर दो। इस प्रकार अपनी किताब में डूब जाओ आपको पता ही ना चले कि बगल वाले क्या बोल रहे हैं या आस-पास में क्या हो रहा है।

 

2. रात में सोने से पहले कल की योजना बना ले

जिस प्रकार एक महिला शाम को यह सोचने में 1 घंटे निकाल देती है कि आज क्या सब्जी बनाएं। जबकि सब्जी बनाने में केवल आधा घंटा ही लगता है। 

 

ठीक उसी प्रकार कई बार विद्यार्थी का यह सोचने में समय निकल जाता है कि आज क्या पढ़ें? इसलिए आपको कल क्या पढ़ना है वह टारगेट रात में सोने से पहले बना ले। 

 

टारगेट किस प्रकार बनाएं जिसे किसी भी हाल में उसे पूरा करना है। इसका मतलब यह नहीं कि 1 घंटे का काम पूरे दिन में करना है। आप अपने सामर्थ्य अनुसार इस प्रकार टारगेट बनाए कि आप अपना 100% समय का उपयोग कर सकें।

 

3. लगातार 45 मिनट से ज्यादा न पढ़ें

 पढ़ने को तो हम लगातर दो-तीन घंटे भी पढ़ लेते हैं। लेकिन वह पढ़ाई सर  के ऊपर से निकलती रहती हैं। इसलिए हमें विज्ञान की बात माननी चाहिए।

 विज्ञान कहती हैं हम अपने मस्तिष्क को लगातार 45 मिनट से ज्यादा एकाग्र नहीं रख सकते हैं। इसलिए हमें भी विज्ञान की बात मानकर 45 मिनट तक लगातार पढ़ाई करनी चाहिए। उसके बाद 5 मिनट का ब्रेक ले ले। इस ब्रेक में पानी पी लें,  मुंह धो ले, थोड़ा सा टहल लें या कोई मोटिवेशनल वीडियो या कॉमेडी वीडियो देख ले।

 

4. पढ़ाई को easy रूप में लें 

कई बार हमारे मन में यह बात बैठ जाती है कि यह विषय बहुत Hard है। इसे समझना मुश्किल है। यह तो मेरा दिमाग खराब कर दिया। जब हमारे मन में यह भावना आ जाएगी तो हम मन लगाकर नहीं पढ़ सकते हैं।

 

 इसलिए अपने मन से यह बात निकाल दे। कोई विषय Hard नहीं होता। हमारा बस सोचने का तरीका Hard है।  

 

यह तो बहुत easy है। एक बार नहीं 10 बार बोले। यह तो बहुत easy है फिर उस विषय की पढ़ाई करें। इससे यह होगा कि आपके मन में यह बात आ जाएगी   की यह विषय बहुत easy है और फिर आपको पढ़ने में मन लगेगा। 

 

5. पढ़ाई करने वक्त  ध्यान भटकाने वाली चीजों से दूर रहें

जब भी आप पढ़ाई करने बैठे  उससे पहले ध्यान भटकाने वाली चीजें से दूर रहें। WhatsApp, Facebook, YouTube जैसे सोशल मीडिया पर जो आपको काम करना है पहले ही कर ले। अगर पढ़ाई करने वक्त आपके दिमाग में इस संबंधी बात आती रहेगी तो फिर आपका ध्यान पढ़ाई में नहीं लगेगा।

 

6. Time Table बना कर पढ़ाई करें

पढ़ाई का एक टाइम टेबल जरूर बना ले। इससे आपको उस टाइम में पढ़ने का अभ्यास लग जाएगा। जब आप प्रत्येक दिन किसी निश्चित समय में पढ़ेंगे तो उस समय आपको पढ़ने में मन लगेगा। 

 

 क्योंकि हमारा शरीर और मन उस समय एक ही काम  को करते-करते अभ्यस्त हो जाता है और वह समय हमारे लिए एक अनुकूल समय साबित हो जाता है।

 

 

7. अच्छी नींद लें

यदि केवल आपको 1 दिन के लिए पढ़ाई करना हो तो आप बिना सोए पढ़ सकते हैं। लेकिन लगातार पढ़ाई करने के लिए सोना बहुत आवश्यक है।

 

 बिना सोए आप का मन पढ़ाई में नहीं लग सकता है। सोना सबसे अच्छा आराम है।  जब तक आपका मस्तिष्क आराम नहीं करेगा वह अपना काम नहीं कर सकता।

 इसीलिए अच्छी तरह से सोए। सोने के समय में कटौती ना करें।

 

8. खानपान पर विशेष ध्यान दें

एक पुरानी कहावत है भूखे भजन न होय गोपाला। यानी खाली पेट हम भगवान का नाम भी नहीं ले सकते हैं पढ़ाई लिखाई तो दूर की बात है।

 

 इसलिए अपने खाने पीने पर विशेष ध्यान दें। स्वास्थ्य को ध्यान रखते हुए  खाने पीने की समय तालिका बना लें। हरी सब्जी, दालें, सलाद, मछली, अंडे आदि खाने में शामिल करें।

 

  फास्ट फूड जैसे चाऊमीन, बर्गर, पिज़्ज़ा एवं अत्यधिक तेल मसाले वाली खाने से अपने आप को दूर रखें।

 

9. मन को हमेशा शांत रखें  

मैंने एक लेख लिखा था मन को शांत कैसे रखें यह एक बार जरूर पढ़ ले। बिना मन शांत किए हम अपना पढ़ाई में मन नहीं लगा सकते हैंं।

 

 चाणक्य नीति कसते हैं कि पढ़ाई एक तपस्या के समान है और तपस्या के लिए मन का शांत होना बहुत आवश्यक है। इसलिए पढ़ाई करने वक्त मन को शांत रखना चाहिए।

 

10. Overthinking से बचें 

अत्यधिक सोच यानी  Overthinking से बचना चाहिए। पढ़ने वाले विद्यार्थियों में यह समस्या सबसे ज्यादा होती हैं।

 मैंने एक लेख लिखा है   Overthinking के कारण एवं उपाय  इसे जरूर पढ़ ले। 

ऐसा करने से हमारे आसपस एक नेगेटिव Overthinking का माहौल बन जाता है। हम उस समस्या के बारे में सोचते रहते हैं जो कभी आएगी ही नहीं। इसलिए इस से हमेशा दूर रहे।

 

11. योगा एवं व्यायाम पर विशेष ध्यान दें 

ध्यान एकत्रित करने के लिए योगा एवं शारीरिक स्वास्थ्य रहने के लिए व्यायाम बहुत आवश्यक है। यदि हम मानसिक एवं शारीरिक रूप से स्वस्थ नहीं रहेंगे तो कभी भी पढ़ाई में मन नहीं लगा सकते हैं।

 

योगा एवं व्यायाम के लिए प्रत्येक दिन समय निकालें। इसे अपने सामान्य रुटीन में शामिल करें। यदि हमने एक बार इसे शुरू कर दिया तो यह हमारे जीवन का एक भाग बन जाता है जिसे ना चाहते हुए भी हमें करना ही पड़ता है। इसलिए आप सिर्फ एक बार इसे शुरू कर दें फिर अपने आप यह habit में बदल जाएगा। 

 

इस प्रकार हमने कुल 11 उपाय आपको बताया। इसका पालन अवश्य करें। इसे करने से आपको पढ़ाई में मन जरूर लगेगा

 

पढ़ाई में मन लगाने के टोटके 

कई लोग पढ़ाई में मन लगाने के लिए टोटके खोजते रहते हैं। कोई बाबा जी के पास जाकर ताबीज पहन लेता है तो कोई कुछ और करते हैं। मैं इसे अच्छा नहीं मानता हूं और आपसे भी निवेदन करता हूं इस टोटके के चक्कर में ना पड़े। क्योंकि इसमें केवल समय की बर्बादी होती हैं। 

 

कुछ दिन पहले एक लेख लिखा था सोने के सही तरीके उसमें मैंने बताया था कैसे सोया जाएं।

 

मैं आपको कोई टोटका नहीं बल्कि एक विज्ञान प्रमाणित बात बता रहा हूं। आप रात में सोने वक्त अपना सिर पूरब की दिशा की ओर एवं पांव पश्चिम दिशा की ओर रखकर सोएं। इससे आपको पढ़ाई में मन लगेगा एवं आपकी याददाश्त शक्ति में भी वृद्धि होगी।

पढ़ाई में मन लगाने के मंत्र

 

कई विद्यार्थी मुझसे पढ़ाई में  मन लगाने के मंत्र पूछते रहते हैं। ऐसे किसी भी मंत्र का उच्चारण करने से हमारे शरीर एवं मस्तिष्क पर अच्छा ही प्रभाव पड़ता है। आपको मैं रामचरितमानस का  चौपाई बता रहा हूं। यह चौपाई मन ही मन स्मरण जरूर करना चाहिए।

हमेशा नहीं दिन में दो या तीन बार मन ही मन इस मंत्र का स्मरण कर ले। कोई भी चौपाई या मंत्र तभी लाभदायक है जब आपको इस मंत्र पर विश्वास होगा। क्योंकि विश्वास है तो सभी जगह भगवान है नहीं विश्वास है तो मंदिर में भी पत्थर की मूर्ति है।

विश्वास बहुत जरूरी है। रामचरितमानस के  बालकांड से लिया गया यह मंत्र है। जिसमें राम अपने चारों भाई सहित गुरु आश्रम में पढ़ने के लिए गए थे। बहुत ही कम समय में सभी प्रकार की शिक्षा प्राप्त कर लिए। पढ़ाई शुरू करने वक्त इस मंत्र को जरूर स्मरण करें।

गुरु गृह गए पढ़न रघुराई।

अल्प काल विद्या सब आई।।

आपके मन में कोई सवाल हो तो गूगल में जाकर स्टेशन गुरुजी लिखे और उसके आगे  सवाल लिखते हैं आपको उसका जवाब मिल जाएगा। यदि और कोई मन में सवाल हो तो हमें आप ईमेल भेज सकते हैं मेरा ईमेल आईडी है [email protected]

धन्यवाद।

 

Author

  • Madan Jha

    Hello friends, मेरा नाम मदन झा है। मैं LNMU Darbhanga से B.Com (Hons) एवं कोटा विश्वविद्यालय राजस्थान से M.Com हूं। मेरे इस वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी www.stationguruji.com हैं। मैं रेलवे विभागीय परीक्षा (Railway LDCE Exam), बच्चों के पढ़ाई लिखाई, नौजवानों के लिए मोटिवेशनल कहानी एवं निवेश, स्टॉक मार्केट संबंधी वित्तीय एवं ज्ञानवर्धक जानकारी शेयर करता रहता हूं।( नोट - उपर में Download बटन लगा है। Download करने के लिए पेज़ पर सबसे नीचे View Non-AMP version पर क्लिक करें। फिर नए पेज़ पर Download बटन पर क्लिक करके इसे Download कर सकते हैं।)

Leave a Comment