सोने का सही तरीका क्या है? जानिए किस दिशा में सिर रखके सोना चाहिए?

Last Updated on अक्टूबर 15, 2022 by Madan Jha

सोने का महत्व

 24 घंटे में से हम सभी 8 घंटे सोते हैं। यानी दिन के कुल घंटे का 1/3 भाग सोने में बिताते हैं। यदि हमारी Average age 60 साल हैं तो हम 20 साल सोते हैं। सुनने में थोड़ा अजीब लगता है लेकिन बात सही हैं।

 

लेकिन बड़े दुख की बात है कि भारत में 70% लोगों को पता नहीं कि कैसे सोया जाए? यानी सोने का सही तरीका क्या है? जो काम प्रतिदिन 8 घंटे करते हैं  लेकिन उस काम को सही से करने का तरीक़ा पता नहीं यह तो बहुत दुख की बात है।

 

आपने कई बार सुना होगा कि अमुक व्यक्ति सोते समय ही मर गया या अमुक व्यक्ति सो के उठा और उसे लकवा मार दिया या किसी व्यक्ति को सोते समय Brain hemorrhage हो गया। ऐसी कई समस्याएं जो सोते समय हो जाती है जिसका मुख्य कारण यह है कि हम सही से नहीं सो पाते हैं।

 

जैसा कि आप जानते हैं कि सोना हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना लाभदायक है। बिना सोए हम लंबे समय तक जीवित नहीं रह सकते हैं। लेकिन कोई भी काम यदि सही ढंग से ना किया जाए तो वह नुकसानदायक बन जाता है।

 

जैसे आप योगा करने योगा शिक्षक के पास जाते होंगे तो हमेशा यही बात कहते हैं कि भले आप कितना भी योगा एवं व्यायाम कर लो यदि आप सही तरीके से ना करो तो वह लाभ के देने के स्थान पर नुकसानदायक बन जाता है।

 

ठीक इसी प्रकार आप कितना भी देर बिस्तर पर सो जाओ। यदि ठीक से नहीं सोओगे तो यह हमारे लिए लाभ के बदले नुकसानदायक साबित हो जाएगा। क्योंकि यह हमारा निंद पूरी तरह आरामदायक नहीं हो पाएगा और दिन में हम अपना काम सही ढंग से नहीं कर पाएंगे।

कई व्यक्ति पेट के बल सोता है तो कई व्यक्ति पीठ के बल होता है। कोई दाएं करवट लेकर सोता है तो कोई बाएं करवट लेकर सोता है। कई व्यक्ति दोनों पैर मोर के सोता है कोई व्यक्ति इन दोनों हाथ यह दूसरे में उलझा कर सोता है और ना जाने कैसे-कैसे सोता है। जिससे कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

 

हम आप भी कई बार जब सोकर उठते हैं तो कभी कमर दुखने लगता है तो कभी गर्दन की नस में दर्द होने लगता है। कभी पेट में गैस बन जाता है तो कभी कब्ज की समस्या रहते हैं। इस सभी समस्या का एक कारण है ठीक से ना सोना। यदि हम ठीक से सोना सीख जाए तो हजारों समस्या का समाधान कर सकते हैं।

 

जो व्यक्ति पेट के बल होता है उससे सांस एवं पेट संबंधी कई बीमारियां उत्पन्न हो जाते हैं। पूरी रात पेट के साथ-साथ  आंत पर दबाव पड़ने के कारण पाचन शक्ति ठीक से काम करना बंद कर देते हैं। सांस लेने में काफी परेशानी हो जाती हैं। लंबे समय तक ऐसा करने से सांस संबंधी कई बीमारियां उत्पन्न हो जाती हैं एवं पाचन तंत्र भी Damage हो सकता है।

यदि विद्यार्थी ठीक से सोएगा अपना विषय याद करने में मदद मिलेगी। उसे पढ़ने में मन लगेगा, मन शांत रहेगा और परीक्षा में अच्छे नंबर से पास करेेगा। इसलिए सफलता प्राप्त करने में सोने का भी अपना अलग महत्व है।

सोने का सही तरीका -Right Sleeping Position

 

सोने का सबसे सही तरीका है कि हम बाएं करवट लेकर सोए। कई डॉक्टरों एवं आयुर्वेदिक शिक्षकों का एक मत है कि बाई करवट लेकर सोने से कई फायदे हैं। 

 

बाई करवट लेकर सोने में हमें रात में अच्छी नींद आती हैं। हमारा पाचन शक्ति सही रहता है। गैस एवं कब्ज की समस्या समाप्त हो जाती हैं।

 

हमारा दिल सीने के बाएं तरफ ही रहता है और बड़ी आंत भी पेट के बाई तरफ होता है। बाई तरफ करवट लेकर सोने से खून संचरण में कोई बाधा नहीं पहुंचती है और रक्त अपना काम सही ढंग से करता रहता है।

 

 बड़ी आंत बाई तरफ होने के कारण खाने के पाचन संबंधी कार्य में कोई भी परेशानी उत्पन्न नहीं होता है एवं पूरे पाचन संबंधी कार्य करते रहते हैं।

 

सोने की सही दिशा -Right Sleep Direction

 

हमें हमेशा सिर दक्षिण दिशा की ओर एवं पांव उत्तर दिशा की ओर रखकर सोना चाहिए। यह एक विज्ञान प्रमाणित तकनीकी है जो हमें अच्छा नींद के साथ-साथ हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक है।

 

जैसा कि आप सब जानते हैं कि उत्तर दिशा में गुरुत्वाकर्षण बल सबसे ज्यादा होती है। जब कोई व्यक्ति मर जाता है तो हम उसे सिर उत्तर की ओर करके लेटा देते हैं। 

 

जिसका वैज्ञानिक कारण यह है कि मनुष्य के मरने के बाद कई घंटे तक उसका मस्तिष्क  जीवित रहता है। उत्तर दिशा की ओर मस्तिष्क रखने से मृत व्यक्ति का बचा हुआ प्राण जल्द से जल्द अपनी गुरुत्वाकर्षण बल के कारण ही चली जाती हैं उसका पूरा शरीर मृत हो जाता है।

 

इस प्रकार आप सोच सकते हैं कि हम या आप कोई अपना सर उत्तर की दिशा में रख कर सोते हैं तो कितना बड़ा नुकसान उठाना पड़ता है। हमारा मानसिक शक्ति कम होने लगती हैं एवं कई रोग पैदा हो जाता है।  इसलिए कभी भी हमें उत्तर दिशा की ओर से रखें नहीं सोना चाहिए।

 

उत्तर और दक्षिण दिशा के बारे में आप समझ गए। अब हैं पूरब और पश्चिम दिशा। 

पढ़ने वाले विद्यार्थियों को हमेशा अपना सिर पूरब दिशा की ओर रखकर सोना चाहिए। पूरब दिशा की ओर सर रखकर सोने से यादाश्त शक्ति में वृद्धि होती है। जिसके कारण उन्हें जल्दी याद हो जाता है एवं देर तक मस्तिष्क में रहता है।

 

पश्चिम दिशा में सर रखकर सोने से चिंता एवं गलत विचार आते रहते हैं। हम पूरे रात Negative Overthinking में घिरे रहते हैं। जिससे हमारे कार्य पर बहुत विपरीत प्रभाव पड़ता है।

 

दोस्तों सोने का सही पोजीशन और सोने की सही दिशा यह आपको छोटी-मोटी बातें लगता होगा। लेकिन आप शायद नहीं जानते कि छोटी-छोटी बातों पर हम यदि ध्यान दें तो हम बड़ी सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

 

 हम जीवन में जितने भी निर्णय लेते हैं अपने मस्तिष्क के द्वारा ही लेते हैं। यदि हमारा मस्तिष्क ठीक से आराम नहीं कर पाएगा तो वह कभी भी सही निर्णय नहीं ले सकता है और एक गलत निर्णय हमारे जीवन को बर्बाद कर सकता है।

 

चाणक्य नीति, विष्णु पुराण आदि ग्रंथों में इन बातों का जिक्र है। इन्हीं बातों पर पालन करके ऋषि-मुनियों लम्बी आयु जीतें थे। आधुनिक medical science भी इसे सही मानता हैं।

 

इस प्रकार हमने आपको सोने की सही position एवं सही दिशा बताया है। आपको यह लेख कैसा लगा जरूर बताएं। कोई मन में सवाल हो तो कमेंट जरूर करें।

आपके मन में कोई सवाल हो तो गूगल में जाकर स्टेशन गुरुजी लिखे और उसके आगे का सवाल लिखते हैं आपको उसका जवाब मिल जाएगा। यदि और कोई मन में सवाल हो तो हमें आप ईमेल भेज सकते हैं मेरा ईमेल आईडी है [email protected]

 

 धन्यवाद।

Author

  • Madan Jha

    Hello friends, मेरा नाम मदन झा है। मैं LNMU Darbhanga से B.Com (Hons) एवं कोटा विश्वविद्यालय राजस्थान से M.Com हूं। मेरे इस वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी www.stationguruji.com हैं। मैं रेलवे विभागीय परीक्षा (Railway LDCE Exam), बच्चों के पढ़ाई लिखाई, नौजवानों के लिए मोटिवेशनल कहानी एवं निवेश, स्टॉक मार्केट संबंधी वित्तीय एवं ज्ञानवर्धक जानकारी शेयर करता रहता हूं।( नोट - उपर में Download बटन लगा है। Download करने के लिए पेज़ पर सबसे नीचे View Non-AMP version पर क्लिक करें। फिर नए पेज़ पर Download बटन पर क्लिक करके इसे Download कर सकते हैं।)

Leave a Comment