बीमा (Insurance) क्या है और इससे क्या लाभ है?

Last Updated on अक्टूबर 11, 2022 by Madan Jha

आपके कई दोस्त हमेशा आपको सलाह देते होंगे मुचल फंड (Mutual Fund) में इन्वेस्ट कर लो, एसआईपी (SIP) कब शुरु कर रहे हो जल्दी शुरू करो। स्टॉक मार्केट में निवेश  करके देखो।

लेकिन आपका सच्चा दोस्त हमेशा आपसे कहता होगा और काम बाद में पहले बीमा (Insurance) ले लो। क्योंकि इंश्योरेंस और इन्वस्टमेंट में पहला नंबर इंश्योरेंस का आता है। इसलिए सबसे पहले बीमा (Insurance) बाद में इन्वेस्टमेंट।

बीमा (Insurance) क्या है

बीमा (Insurance), बीमा कराने वाले व्यक्ति और बीमा करने वाले कंपनी के बीच एक कानूनी एग्रीमेंट है। एग्रीमेंट के अनुसार यदि बीमित व्यक्ति को किसी प्रकार का नुकसान होता है तो बीमा कंपनी उस एग्रीमेंट के अनुसार क्षतिपूर्ति करेगा।

बीमित व्यक्ति द्वारा भुगतान किए गए प्रीमियम और लिए गए बीमा प्लान के अनुसार ही उन्हें यह सुरक्षा कवच दिया जाएगा। यानी जितने का आप बीमा (Insurance) कराओगे  उसी के अनुसार आप को क्षतिपूर्ति की जाती हैं।

बीमा (Insurance) कितने प्रकार के होते हैं?

आधुनिक समय में बीमा कई प्रकार के होते हैं। आज से 10 साल पहले यात्रा बीमा का नाम भी कहीं नहीं आता था। लेकिन आज हम 2 किलोमीटर जाने के लिए यदि कैब बुक करते हैं तो ₹- 1-  ₹  2 में हम यात्रा बीमा ले सकते हैं। जिससे हमारे नुकसान की भरपाई हो जाती है।

वैसे बीमा (Insurance) को दो भागों में बांटा गया हैै

1. जीवन बीमा (Life Insurance)

2 साधारण विभाग (General Insurance)

जीवन बीमा (Life Insurance) क्या है?

जीवन बीमा सबसे महत्वपूर्ण बीमा माना गया है। प्रत्येक परिवार में कमाने वाले व्यक्ति के साथ साथ सभी सदस्य को जीवन बीमा जरूर लेना चाहिए।

जीवन बीमा में बीमित व्यक्ति और जीवन बीमा कंपनी के बीच एक कानूनी एग्रीमेंट किया जाता है।  यदि बीमित व्यक्ति को जीवन में कुछ नुकसान हुआ तो  बीमा प्लान के अनुसार बीमा कंपनी उसे क्षतिपूर्ति करेगी।

दोस्तों, मनुष्य के हाथ में सब कुछ नहीं होता है। हम प्रतिदिन यात्रा करते हैं। हम अपनी गाड़ी को पूरी सावधानी और धीमी गति में चलाते हैं।

भगवान ना करें पीछे से कोई नशा करके अन्य गाड़ी यदि आपको टक्कर मार दी और आपका प्राण निकल जाए, तो सोच सकते हैं कि आपके ना रहने से आपके परिवार की क्या हालत होगी।

आप अपना जिम्मेदारी ले सकते हैं जैसे गाड़ी धीरे चलाना, गाड़ी चलाने वक्त नशा का सेवन ना करना आदि। लेकिन पूरी दुनिया की जिम्मेदारी आप नहीं ले सकते हैं।

आगे से या पीछे से टक्कर मार कर कोई हमारा जीवन समाप्त कर सकता है। उसके बाद हमारे परिवार का वित्तीय जरूरत पूरा कौन कर सकता है। इसलिए आप अपने जीवन की बीमा जरूर करवाएं। यह अति आवश्यक है।

जीवन बीमा कितने प्रकार के होते हैं

वैसे तो बढ़ती हुई बीमा कंपनी और उसके बीच बढ़ता हुआ कंपटीशन के कारण जीवन बीमा कई प्रकार के हो गए हैं। परंतु मुख्य रूप से जीवन बीमा दो प्रकार के होते हैं

1. ट्रेडिशनल जीवन बीमा

2. टर्म लाइफ इंश्योरेंस

ट्रेडिशनल जीवन बीमा क्या है

ट्रेडिशनल जीवन बीमा सबसे लोकप्रिय हैं। आप जरूर यह बीमा कर लिए होंगे। लेकिन इसका नाम आपको अभी समझ में नहीं आ रहा है।

सरल भाषा में कहा जाए तो वैसा बीमा जिसमें  अवधि पूरा होने पर हमें प्रीमियम और बोनस दोनों प्राप्त होता है वही ट्रेडिशनल बीमा है।

जैसे आपने एलआईसी या किसी अन्य कंपनी से 20 साल का जीवन बीमा लिया। 20 साल में आप को किसी प्रकार का नुकसान नहीं हुआ तो 20 साल बाद आपको जमा की गई प्रीमियम और बोनस मिला कर पैसा मिलता है। यह ट्रेडिशनल जीवन बीमा है।

कई वित्तीय सलाहकार इस बीमा को गलत मानता है। कुछ लोग इसे सही भी मानता है। सही गलत का निर्णय मैं आप पर छोड़ देता हूंं। मेरा काम है आपको सही वित्तीय जानकारी प्रदान करना।

आप खुद एक बार सोचे, आप जीवन बीमा इसलिए कराते हैं कि कि आप यदि ना  रहे तो आपके परिवार को इतना पैसा मिले की उसकी वित्तीय जरूरत पूरा हो जाए।

ट्रेडिशनल जीवन बीमा में यदि हम 10 लाख का बीमा लेते हैं तो वार्षिक प्रीमियम लगभग 50,000 से ऊपर आता है। एक मध्यवर्गीय परिवार के लिए 50,000 वार्षिक प्रीमियम का भुगतान करना मुश्किल होता है।

यदि आप मुश्किल उठाकर ₹  50 ,000 सालाना प्रीमियम का भुगतान कर दिए हैं। आप यह सोचे कि क्या यह 10,00,000 आप के ना रहने पर आपके परिवार के लिए पर्याप्त हैं? क्या इस पैसे से आपके बच्चे पढ़ सकते हैं?

आपके परिवार खाना खा सकते हैं और जो भी उनकी  आवश्यकता है उसको पूरा कर सकते हैं? यदि आपका जवाब हां है तो आपके लिए यह सही है। आपका जवाब ना है तो आपके लिए यह बीमा गलत है।

ग्रामीण भारत में तो 90% से ज्यादा लोग यही प्लान लेकर अपने आप को बीमित व्यक्ति मानते हैं। उनमें से 70% से ज्यादा लोग 1,00,000 से भी कम का बीमा ले रखें हैं।

अब सोचिए उन के ना रहने पर बीमा कंपनियों नोमनी को ₹  1 ,00,000 देगा।  उस एक लाख से उनके परिवार में क्या हो सकता है? मेरा काम  बताना है। निर्णय आपको करना है कि कौन सा प्लान आपके लिए अच्छा या बुरा है।

लाइफ इंश्योरेंस टर्म प्लान क्या है

लाइफ इंश्योरेंस टर्म प्लान (Term Plan Insurance) विदेशों में काफी लोकप्रिय हैं। पिछले कुछ सालों से पढ़े-लिखे भारतीय में भी यह लोकप्रिय हो रहा है। यह टर्म प्लान (Term Plan Insurance) जीवन बीमा वह है जिसमें आप कम पैसे में अपने जीवन का बीमा कर सकते हैं।

पहले आपको ट्रेडिशनल प्लान और Term Plan Insurance में अंतर बता दें। इस Term Plan Insurance में सबसे मुख्य बात यह है कि इसमें बीमा अवधि के बाद आपको कुछ भी पैसा नहीं मिलेगा।

इसी कारण  से कूछ लोग इसे पसंद नहीं करते हैं। लेकिन दोस्तों, वास्तव जीवन बीमा का अर्थ Term Plan Insurance ही है। इसमें आप 10 हजार के करीब  सालाना प्रीमियम देेेेकर एक करोड़ का जीवन बीमा ले सकते हो।

अब आप जरा सोचो कि  किसी कारण बस आपके ना रहने पर आपके परिवार को एक करोड़ रुपया मिलेगा। वर्तमान समय में 7% ब्याज से एक करोड़ का 7%, 7 लाख में  एक मध्यवर्गीय परिवार की बात कर रहा हूं आराम से पढ़ाई लिखाई एवं जीवन यापन कर सकता है।

जीवन बीमा लेने का आपका वास्तविक उद्देश्य होना चाहिए कि आप के ना रहने पर आपके परिवार को वित्तीय रूप से कोई परेशानी ना हो। इसके लिए Term Plan Insurance  सबसे अच्छा बीमा है।

यदि आप इसे ले लिए हैं तो अच्छी बात है और ना लिए हैं तो इस पर एक बात जरूर विचार करें। नहीं ज्यादा तो आप लगभग ₹  5,000 वार्षिक प्रीमियम पर 50,00,000 का Term Plan Insurance जरूर ले।

50,00,000 भी एक मोटा रकम होता है जो आपके परिवार को वित्तीय स्थिति मजबूत कर सकता है। आगे आपकी इच्छा।

साधारण बीमा क्या है

जैसा कि मैं आपको ऊपर बता चुका हूं कि बीमा दो प्रकार के होते हैं एक जीवन बीमा और दूसरा साधारण बीमा। जीवन बीमा के बारे में विस्तार से बता चुका हूं। अब बारी आती हैं साधारण बीमा की।

साधारण बीमा भी कई प्रकार के होते हैं। जैसे घर का बीमा, गाड़ी का बीमा, फसल का बीमा, यात्रा बीमा, स्वास्थ्य बीमा इत्यादि। सभी के बारे में एक संक्षिप्त विवरण आपके साथ शेयर कर रहा हूं।

1. स्वास्थ्य बीमा ( Health Insurance)

पिछले कुछ वर्षों में स्वास्थ्य बीमा भी काफी लोकप्रिय हो रही है। इस बीमा में बीमित व्यक्ति को किसी भी प्रकार का बीमारी हो जाता है तो अनुबंध के अनुसार उस बीमारी के खर्चे बीमा कंपनी द्वारा दिए जाते हैं।

इसमें समझने वाली बात यह है कि आपको उसी हॉस्पिटल में अपना इलाज करना पड़ेगा जिस हॉस्पिटल में आपका बीमा कंपनी आप को अधिकृत किया है। आपको बीमारी में खर्च की राशि भी उतनी ही मिलेगी जितने का बीमा ले रखें है।

कई बीमा कम्पनी पूरे परिवार का स्वास्थ्य बीमा करते हैं। यह ज्यादा लाभदायक है। आप  अपने पूरे परिवार के लिए स्वास्थ्य बीमा जरूर ले।  बढ़ती हुई बीमारी और अस्पताल के मोटी चार्ज से बचने के लिए स्वस्थ बीमा बहुत ही आवश्यक है।

2. गाड़ी बीमा (Car Insurance)

आपके पास दो पहिया, तीन पहिया या फिर कार हो आप के लिए बीमा लेना आवश्यक है। कानूनी रूप से भी बीमा लेना आवश्यक है। यदि आप यातायात पुलिस के फाइन से बचना चाहते हैं तो यह बीमा आपको लेना ही पड़ेगा।

गाड़ी बीमा लेने से फायदा या है कि यदि आपका गाड़ी चोरी हो जाए, दुर्घटना में गाड़ी का नुकसान हो जाए या किसी दूसरे व्यक्ति को चक्कर मारने पर उसका नुकसान हो जाए। इसका भरपाई बीमा कंपनी करती है।

इस विषय में आप ज्यादा सोचो मत। क्योंकि एक कानूनी दस्तावेज हैं जो आपके लिए अनिवार्य है। इसे आपको लेना ही पड़ेगा। जितना जल्दी हो सके इसे आप लें।

3. घर का बीमा (Home Insurance)

हम जिस घर में रहते हैं उसका भी बीमा करना चाहिए। आज के समय में घर लेना यह बहुत ही मुश्किल काम हैै। घर खरीदने के लिए हम लाखों रुपए का बैंक से लोन लेते हैं।

वैसे तो बैंक लोन देने वक्त ही आपके घर का बीमा कर देती हैं। फिर भी यदि आप अपने घर को आग से, भूकंप से, बाढ़ से या अन्य प्राकृतिक आपदा से बचाना चाहते हैं तो आपको घर का बीमा करवाना चाहिए।

4. फसल बीमा (Crops Insurance)

भारत में कृषि को मानसून का जुआ कहा जाता है। यानी मानसून हुआ तो खेती हुआ, मानसून नहीं तो खेती नहीं होगा।

किसान को बीज, खाद, मजदूरी के पैसे लग जाते हैं और बाढ़ एवं सूखा होने के कारण फसल बर्बाद हो जाता है। इस स्थिति से बचने के लिए किसान अपनी फसल का बीमा करा लेते हैं।

आज के समय में सरकार द्वारा फसल बीमा पर काफी जोर दिया जा रहा है। फसल बीमा करवाने के लिए सरकार सब्सिडी भी दे रही है। इसलिए किसान को अपनी फसल की बीमा जरूर करवानी चाहिए।

5. यात्रा बीमा ( Traveling Insurance)

यात्रा बीमा विदेशों में काफी प्रचलित हैं। भारत में भी यह लोकप्रिय हो रही हैै। हमें फ्लैट से विदेश जाना हो या फिर कैब बुक करके घर से रेलवे स्टेशन जाना हो, सभी जगह यह बीमा उपलब्ध है।

जब भी आप ऑनलाइन टिकट बुक करते हैं उसमें  यह विकल्प दिया जाता है। बहुत कम पैसे जैसे कैब में 1 से ₹  2 में, ट्रेन में 10 से ₹  20   में आप अपना यात्रा बीमा करवा सकते हैं। यह बीमा यात्रा शुरू होने से यात्रा खत्म होने तक वैध रहता है।

इस यात्रा के दौरान यदि आपको किसी प्रकार का नुकसान जैसे चोट लग जाए, समान चोरी हो जाए तो उसका भुगतान संबंधित बीमा कंपनी द्वारा किया जाता है।

इस प्रकार मैंने प्रमुख लोकप्रिय बीमा के बारे में वित्तीय ज्ञान आपके साथ शेयर किया। आप अपने आवश्यकतानुसार अपना बीमा ले सकते हैं।  कोई बीमा लेने में भले आप थोड़ा बहुत देर करें लेकिन जीवन बीमा जितना जल्दी हो सके आप जरूर ले।

विश्वास कीजिए जीवन बीमा लेने के बाद आपको एक मानसिक शांति मिलेगी जो आपको अंदर से आनंदित कर देंगे। आपको अपने परिवार के बारे में ज्यादचिंता नहीं सताएगी। परिवार के अच्छे मुखिया का फर्ज निभाएंगे।

मेरे वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी है। मैं यहां पर पढ़ाई लिखाई, मोटिवेशनल कहानी, वित्तीय जानकारी इत्यादि विषय पर जानकारी शेयर करता रहता हूं। यह आपके लिए काफी लाभदायक हो सकता है।

आप गूगल में जाकर स्टेशन गुरुजी और उसके आगे अपना सवाल लिखें आपको उसका जवाब मिल जाएगा। आप मुझे ईमेल भी कर सकते हैं। मेरा ईमेल पता है [email protected]

धन्यवाद

Author

  • Madan Jha

    Hello friends, मेरा नाम मदन झा है। मैं LNMU Darbhanga से B.Com (Hons) एवं कोटा विश्वविद्यालय राजस्थान से M.Com हूं। मेरे इस वेबसाइट का नाम स्टेशन गुरुजी www.stationguruji.com हैं। मैं रेलवे विभागीय परीक्षा (Railway LDCE Exam), बच्चों के पढ़ाई लिखाई, नौजवानों के लिए मोटिवेशनल कहानी एवं निवेश, स्टॉक मार्केट संबंधी वित्तीय एवं ज्ञानवर्धक जानकारी शेयर करता रहता हूं।( नोट - उपर में Download बटन लगा है। Download करने के लिए पेज़ पर सबसे नीचे View Non-AMP version पर क्लिक करें। फिर नए पेज़ पर Download बटन पर क्लिक करके इसे Download कर सकते हैं।)

Leave a Comment